Wednesday, September 23, 2009

हिन्दी दिवस

अभी शायाद दस दिन भी नहीं होए की १४ सितम्बर गुजरा । १४ सितम्बर क्या मतलब ?क्या आप पागल हो गए उस दिन क्या होता है? नौ गय्रह की बात करो ,अमेरिका की बात करो अंग्रेजी की बात करो क्या यह १४ सितम्बर इस दिन हिन्दी दिवस था वह भाषा जो हमारी अपनी भाषा है जिस भाषा हम सारे के सारे अधिकांश भारतीय सोचते हैं।उसी हिन्दी के लिए दिन .बचपन से हिन्दी लगाव हैं छोटा था तो हिन्दी मैं लिखता भी था .बाद मैं पता लगा अरे हिन्दी की क्या बिसात महारानी तो अंग्रेजी है । डेल्ही के पोश इलाके वसंत विहार मैं मैडम विदेशी सोफे मैं बैठ कर फलों के जूस का सेवन रही हैं और पीछे से एसी बयार फ़ेंक रहा हैं और वन्ही कंही रसोई मैं नौकर्रानी चूले के सामने बैठे गर्मी मैं झुलस रही है । बस येही मैडम अंग्रेजी है और बेचरी नौकरानी हिदी है.अपनी भाषा के साथ ऐसा सौतेला बर्ताव ?किसी भी देश के विकास मैं उसकी अपनी भाषा महत्पुरण स्थान रखती है, हामरे पड़ोस मैं ही उदहारण हैं चाइना और जापान जैसे देश। मगर शायद हम लोग अब बहुत दूर निकल आए हैं हिन्दी कंही पीछे रह गई हैं पुरानी जर्जर बुढिया की तरह और अंग्रजी कहने ही क्या भाग रही है पुरी रफ्तार से पीटी उषा की तरह । हिन्दी दिवस की बहुत शुभकामना .

10 comments:

  1. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं, लेखन कार्य के लिए बधाई
    यहाँ भी आयें आपके कदमो की आहट इंतजार हैं,
    http://lalitdotcom.blogspot.com
    http://lalitvani.blogspot.com
    http://shilpkarkemukhse.blogspot.com
    http://ekloharki.blogspot.com
    http://adahakegoth.blogspot.com
    http://www.gurturgoth.com
    http://arambh.blogspot.कॉम

    ReplyDelete
  2. Bahut Barhia... aapka swagat hai... isi tarah likhte rahiye...

    thanx
    http://mithilanews.com



    Please Visit:-
    http://hellomithilaa.blogspot.com
    Mithilak Gap...Maithili Me

    http://mastgaane.blogspot.com
    Manpasand Gaane

    http://muskuraahat.blogspot.com
    Aapke Bheje Photo

    ReplyDelete
  3. सवाल तो अच्छा है आपका।

    ReplyDelete
  4. आपके आलेख मे हिन्दी की बहुत सारी ग़लतियाँ हैं कृपया उन्हें ठीक कर लें ।

    ReplyDelete
  5. आप हिन्दी को सुदृण बनाने हेतु अपना सार्थक योगदान करते रहें. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  6. हिंदू हिन्दी हिंदुस्तान
    क्या है भारत की पहचान
    पहले राज किया अंग्रेजों ने
    अब अंग्रेजी के है गुलाम

    देश की आजादी की खातिर
    जाने कितनों ने देदी जान
    हिन्दी को हम भूल रहे है

    " nirbhay jain"

    ReplyDelete
  7. चिट्ठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. सतत लेखन के लिए शुभकामनाएं.

    ---
    Till 30-09-09 लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

    ReplyDelete
  8. सुन्दर लिखा है आपनें ।

    चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

    गुलमोहर का फूल

    ReplyDelete
  9. चिट्ठाजगत के माध्यम से आप हिन्दी को नौकरानी से मैडम बनाने का प्रयास जारी रखें । शुभकामनाएं । मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।

    ReplyDelete